Friday, September 22, 2017
suneetadhariwal.com
कानाबाती -कानाबाती- कुर्रर्ररररर

2चीका मंडी मे शिल्प कला प्रदर्शनी आयोजित

चीका मंडी मे शिल्प कला प्रदर्शनी आयोजित

विषय -चीका मंडी मे महिलाओं दवारा शिल्प कला प्रदर्शनी आयोजित

दिनाक 7 सिंतबर 2013 को हरियाणा कला परिषद के सौजन्य से सांई जन कल्याण
ट्रस्ट चीका मंडी द्वारा स्थानीय अग्रवाल धर्मशाला में कला प्रदर्शनी का
आयोजन किया गया। 30 सिंतबर से 6 सितंबर तक कला परिषद के तत्वाधान मे
आयोजित शिल्प कला कार्यशाला मे 160 छात्राओं ने लुगदी यानि पेपर मैशे की
कलाकृतिया बनाना, गुड़िया बनाना, एंव लोक नृत्य की तकनीक सीखी।
समापन अवसर पर छात्राओं द्वारा खूबसूरत कला प्रदर्शनी का आयोजन किया
गया।और कार्यशाला मे प्रशिक्षण के दौरान बनी कलाकृतियों को जनता के समक्ष
प्रस्तुत किया। प्रदर्शनी मे रखी रंग बिरंगी गुड़िया और गणेश प्रतिमाओं
ने दर्शकों का खासा ध्यान आकर्षित किया। पानीपत से आये कलाकार कर्मचंद
प्रजापति ने मिट्टी एंव पेपर मैशे से कलाकृतिया बनाना सिखाया। ज्योति
शर्मा व सुमन शर्मा ने चंडीगढ़ से आकर छात्राओं को विभिन्न प्रकार की
गुड़िया बनाने का प्रशिक्षण दिया।
अंतिम दिवस छात्राओं का उत्साह वर्धन करने पहुंची परिषद अधिकारी लीला
सैनी ने बताया कि हरियाणा कला परिषद विभिन्न लोककलाओं के प्रचार प्रसार
एंव सरक्षँण हेतू समर्पित है और साल भर ऐसे आयोजन करवाये जाते है
।हरियाणा कला परिषद की अध्यक्षता ऊषा शर्मा चंद्रावल ने बताया कि वे
हरियाणवी कलाओं के विकास हेतू प्रतिबद्ध है और हरियाणा कला परिषद के
कार्यक्रमों को गांव गांव तक ले जाना चाहती है । हरियाणवी सस्कृंति और
लोक कलाओं की जीवित रखने के लिए युवाओं मे इन कलाओं को रोपित करना होगा
ताकि युवा अपनी धरोहर सस्कृंति को सम्मान की नजर से देखे और इस पर गर्व
करे । इसी उद्देश्य से चीका गांव मे यह कार्यशाला आयोजित की गई। साई जन
कल्याण के ट्रस्ट के अध्यक्ष बलकार सिंह ने बताया कि महिला शिल्प विकास
केंद्र में वर्ष भर सिलाई कढ़ाई का प्रशिक्षण दिया जाता है जिसमे 300 से
अधिक महिलाए भाग लेती है। साथ ही कम्पयूटर का भी प्रशिक्षण दिया जाता है।
शिल्प केंद्र की शिक्षिकाओं अंजू मेहरा व सुनीता अरोड़ा की लग्न से यह
केंद्र उन्नति कर रहा है ट्रस्ट के फाउंडर प्रधान नीटू जागंड़ा ने कला
परिषद का धन्यवाद करते हुए कहा कि कला परिषद के सहयोग के कारण ही गांव
की छात्राओं को स्तरीय कलाओं का ज्ञान हो पाया है।और वे भविष्य मे इस
प्रकार के आयोजन करते रहेंगे।
प्रदर्शनी का उद्घाटन की औपचारिकता वरिष्ठ समाजसेवी सुनीता धारीवाल ने की
और छात्राओं को प्रमाण पत्र बांटे । छात्राओं को संबोधित करते हुए
उन्होने कहा कि महिलाएं यदि ठान ले तो वह क्या नही कर सकती । उन्होनें
कहा कि महिलाए अपने लिऐ सपना जरूर देखें और अपने सपने पूरे करे। सपने
देखना ओर उसे हर हाल पालाना भी जरूरी है तभी महिलाऐं अपनी पहचान बना
पाएंगी । इस अवसर पर रणजीत प्रजापत निजुमदीन खान, कुलदीप कुमार सहित शहर
के अन्य गणमान्य नागरिक भी उपस्थित थे