Tuesday, May 22, 2018
suneetadhariwal.com
कानाबाती -कानाबाती- कुर्रर्ररररर

जिन्दगी की साँझ कया सच में बाँझ है

जिन्दगी की साँझ कया सच में बाँझ है

खुशफहम सवेरा था मां पिता के लाड में
जो कुछ भी जग में था सब मेरा मेरा था

दोपहर कड़कती में मेहनत की ठन्ठक थी
जो कुछ भी था पाया सब तेरा तेरा था

कभी सांझ कौतुहल थी फिर सुरमई लगती थी
अब सांझ हकीकत है फिर बांझ कयूं लगती है

कयों नही नये सपनो कोई अन्कुर फूट रहे
बरसो जोड़े थे जो घर वह कंयू हैं टूट रहे

कयों रात की आहट भी हर रात डराती है
सूनेपन की भयावहता सपनों मे आती है

नीड़ में बच्चे जितने थे उड़ दूर जा बैठे है
उनके पन्खों मे जादू है यह मान के ऐन्ठे है

जब कभी वो आतें है हर बार ले जाते है
सपन सलोना सा – तिनका मेरे बिछौने का