Friday, February 23, 2018
suneetadhariwal.com
कानाबाती -कानाबाती- कुर्रर्ररररर

अच्छे बच्चे रोते कयूं सुन्दर आंखें खोते कयूं

अच्छे बच्चे रोते कयूं सुन्दर आंखें खोते कयूं
वो देखो तुम कुतुब मीनार वो देखो दिल्ली का बाजार

संसद के खम्बों की कतार
नोटों से बनती सरकार

देखो भूखी जनता और तिरस्कार
आदिवासियों के स्वचालित हथियार

वो देखो जिस्मों के व्यापार
घर घर में घुसता व्याभिचार

देखो दिल्ली में सजता दरबार
छुटभैय्यों की देखो भरमार

खत्म करेंगे भ्रष्टाचार
कैसे कैसे झन्डाबरदार

दलाली पर जीवन चलाया जिसने
उसकी सबसे आगे थी कार

ये खत्म करेंगें भ्रष्टाचार
इस देश का भला करे करतार

बच कर रहना वाहवाहों से
भाई चापलूस के डन्क हजार