Friday, February 23, 2018
suneetadhariwal.com
कानाबाती -कानाबाती- कुर्रर्ररररर

मन्जिलों को पाटती दुनीया

मन्जिलों को पाटती दुनीया
और बेमकसद सी ठहरी मैं

सपने तो केवल सपने थे
उन में भी उतरी गहरी मैं

झूठ बहाये अपनो नें कितने
सुन कर भी बनती बहरी मैं

सँस्कार देहाती छूट न पाऐ
फिर भी कहलाती शहरी मैं

सान्झ सुबह कोई और ही होंगी
हर दम तपती दुपहरी मैं